Featured

प्रधानमंत्री ने कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक कर दिया ये संदेश

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ कोविड-19 की स्थिति पर उच्च-स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। इन राज्यों में पिछले कुछ समय में मामलों की अधिकतम संख्या दर्ज की गई है।
कोरोना वायरस कई राज्यों के साथ-साथ टियर 2 और टियर 3 शहरों को प्रभावित कर रहा है, इस बात को रेखांकित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने सामूहिक शक्ति के साथ इस महामारी से लड़ने के लिए मिलकर काम करने का आह्वाहन किया है। उन्होंने कहा कि इस महामारी की पहली लहर के दौरान भारत की सफलता का सबसे बड़ा आधार हमारा एकजुट प्रयास और एकजुट रणनीति थी। उन्होंने इस बात को दोहराया कि हमें इस चुनौती का समाधान उसी तरह से करना होगा

प्रधानमंत्री ने यह विश्वास दिलाया कि इस लड़ाई में सभी राज्यों को केंद्र का पूरा सहयोग रहेगा। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य मंत्रालय राज्यों के साथ संपर्क में है और करीब से स्थिति की निगरानी कर रहा है

इसके अलावा समय-समय पर राज्यों को जरूरी सलाह भी जारी कर रहा है।
वहीं, ऑक्सीजन की आपूर्ति को लेकर प्रधानमंत्री मोदी ने राज्यों द्वारा उठाए गए कदमों की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। इसके अलावा सरकार के सभी संबंधित विभाग और मंत्रालय भी साथ काम कर रहे हैं। औद्योगिक इस्तेमाल में आने वाले ऑक्सीजन का भी चिकित्सीय ऑक्सीजन की जरूरतों के लिए उपयोग किया जा रहा है।
प्रधानमंत्री मोदी ने सभी राज्यों से एक साथ काम करने और दवाओं एवं ऑक्सीजन से संबंधित आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए आपसी समन्वय का अनुरोध किया। इसके अलावा उन्होंने राज्यों से ऑक्सीजन एवं दवाओं की जमाखोरी और कालाबाजारी की जांच करने का भी आग्रह किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रत्येक राज्य को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि कोई भी ऑक्सीजन टैंकर, चाहे वह किसी भी राज्य के लिए हो, वह कहीं रूका या फंसा हुआ नहीं हो। वहीं प्रधानमंत्री ने राज्यों से राज्य के विभिन्न अस्पतालों मे ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए एक उच्च-स्तरीय समन्वय समिति गठित करने का भी अनुरोध किया। इस समन्वय समिति को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि केंद्र से जैसे ही ऑक्सीजन का आवंटन होता है, वह तुरंत ही राज्य के विभिन्न अस्पतालों में जरूरत के अनुरूप ऑक्सीजन पहुंचा सके। वहीं, प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों को यह सूचित किया कि बीते कल उन्होंने ऑक्सीजन की आपूर्ति पर एक बैठक की अध्यक्षता की और ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाने को लेकर सभी विकल्पों पर चर्चा करने के लिए आज एक और बैठक में हिस्सा लेंगे।

प्रधानमंत्री ने कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्यों

प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि केंद्र सरकार ऑक्सीजन टैंकरों की यात्रा और लौटने के समय को कम करने के लिए सभी संभावित विकल्पों पर काम कर रही है। इसके लिए रेलवे ने ऑक्सीजन एक्सप्रेस शुरू की है। इसके अलावा एक तरफ की यात्रा समय को कम करने के लिए ऑक्सीजन के खाली टैंकरों का परिवहन वायु सेना द्वारा भी किया जा रहा है।
वहीं प्रधानमंत्री ने कहा कि संसाधनों के उन्नयन के साथ-साथ हमें परीक्षण पर भी ध्यान केंद्रित करना होगा। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि व्यापक स्तर पर परीक्षण किया जाना चाहिए, जिससे लोगों को आसानी से सुविधा मिल सके।
प्रधानमंत्री ने इस बात को रेखांकित किया कि इस स्थिति में भी हमारे टीकाकरण कार्यक्रम को धीमा नहीं किया जाना चाहिए। वहीं प्रधानमंत्री ने इस बात का उल्लेख किया कि भारत विश्व का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान चला रहा है और अब तक केंद्र सरकार द्वारा 15 करोड़ से अधिक टीके की खुराक राज्यों को निःशुल्क प्रदान की गई है। 45 साल से अधिक उम्र के सभी नागरिकों और स्वास्थ्यकर्मियों एवं अग्रिम मौर्चे पर तैनात कर्मियों को नि:शुल्क टीका प्रदान करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा शुरू किया गया अभियान समान रूप से जारी रहेगा। प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा कि 1 मई से यह टीका 18 साल से अधिक उम्र के सभी नागरिकों के लिए उपलब्ध होने जा रहा है। उन्होंने कहा कि हमें अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण करने के लिए मिशन मोड में काम करने की भी आवश्यकता है।
प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि मरीजों के इलाज के लिए सभी उपायों के साथ-साथ अस्पताल की सुरक्षा भी बहुत महत्वपूर्ण है। अस्पतालों में ऑक्सीजन रिसाव एवं आग लगने की हालिया घटनाओं पर दु:ख व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि अस्पताल के प्रशासनिक कर्मचारियों को सुरक्षा प्रोटोकॉल के बारे में और अधिक जागरूक करने की जरूरत है।

इसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी ने प्रशासन से लोगों को लगातार जागरूक करने का भी आग्रह किया, ताकि वे घबराहट में खरीदारी न करें। उन्होंने कहा कि एकजुट प्रयासों से हम देशभर में महामारी की इस दूसरी लहर को रोक पाएंगे।
इससे पहले नीति आयोग के सदस्य डॉ. वी. के. पॉल द्वारा एक प्रस्तुति दी गई, जिसमें संक्रमण की नई लहर के खिलाफ की जा रही तैयारियों को रेखांकित किया गया। इसके अलावा डॉ. पॉल ने चिकित्सा सुविधाओं को बढ़ाने और मरीजों के लक्षित इलाज के लिए रोडमैप भी प्रस्तुत किया। उन्होंने सभी को चिकित्सा संबंधी अवसंरचना, टीमों एवं आपूर्ति को बढ़ावा देने, नैदानिक प्रबंधन, रोकथाम, टीकाकरण और सामुदायिक सहभागिता के बारे में जानकारी दी।
इस बातचीत के दौरान, राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने कोरोना की मौजूदा लहर को लेकर संबंधित राज्य सरकारों द्वारा उठाए जा रहे कदमों के बारे में प्रधानमंत्री को जानकारी दी। इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा दिए गए निर्देशों और नीति आयोग द्वारा प्रस्तुत किए गए रोडमैप से उन्हें बेहतर तरीके से प्रतिक्रियाओं को तैयार करने में सहायता मिलेगी।

Faridabad Breaking News | Today Latest News in India | Today Latest News Headlines
Today Latest News Faridabad | Latest News in Hindi | Politics News India

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें | ईमेल कर सकतें है। – Email

कम मसाले के साथ कैसे बनाएं जबर्दस्त जीरा आलू, जानिएं यहां

इंडियन किचन में कुछ कॉमन डिशेज हैं, जो लगभग सभी को पसंद आती हैं। जैसे, जीरा आलू की दीवानों को अलग-अलग स्टाइल में जीरा आलू खाना पसंद होता है। आज हम आपको एक डिफरेंट स्टाइल में जीरा आलू की रेसिपी बता रहे हैं-

सामग्री :
3 उबले आलू
आधा इंच छिला व कद्दूकस किया अदरक का टुकड़ा
एक बारीक कटी हरी मिर्च
2 छोटे चम्मच जीरा
आधी छोटी चम्मच पिसी हींग
1/4 चम्मच हल्दी पाउडर
आधा चम्मच लालमिर्च पाउडर
एक चम्मच धनिया पाउडर
एक चम्मच अमचूर पाउडर या एक चम्मच नींबू रस
बारीक कटी हरी धनिया
स्वादानुसार नमक
तेल

विधि :
उबले हुए आलू छीलकर काट लें। गैस पर एक फ्राई पैन में तेल गर्म करें और फिर उसमें जीरा डालकर भूनें। उसके बाद पिसी हींग, हरी मिर्च और अदरक को तेल में हल्का भून लें। अब इस तैयार मसाले में कटे आलू डालकर 1 मिनट तक चलाएं। इसके बाद सब्जी में हल्दी, लालमिर्च, धनिया पाउडर, अमचूर पाउडर या नींबू रस और नमक मिलाकर अच्छी तरह मिक्स करें। मध्यम आंच पर 5 मिनट तक मसालेदार आलू फ्राई होने दें। बीच-बीच में आलू चलाएं। जैसे ही ये ब्राउन होने लगें तो गैस बंद कर दें और गर्मागर्म पूरी, परांठे या रोटी के साथ परोसें।

इन जटिल समस्याओं से दिलाते हैं छुटकारा अमरूद के पत्ते
आप हमें हमारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मस FACEBOOKINSTAGRAMTWITTER पर भी फोलो कर सकतें है।

केजरीवाल सरकार ने स्कूल, कॉलेजों को फिर से खोलने के लिए अभिभावकों से मांगी राय

दिल्ली सरकार ने छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों से इस बारे में सुझाव मांगे हैं कि क्या राष्ट्रीय राजधानी में स्कूल और कॉलेज शारीरिक कक्षाओं के लिए फिर से खुलने चाहिए। यह कदम कई राज्यों द्वारा या तो स्कूलों और कॉलेजों को फिर से खोलने की घोषणा के बाद आया है, या आने वाले महीनों में ऐसा करने की योजना बना रहे हैं।

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, जिनके पास शिक्षा विभाग भी है, उन्होंने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जहां कई अभिभावकों और शिक्षकों ने स्कूलों को फिर से खोलने में रुचि दिखाई है, वहीं उन्होंने छात्रों की सुरक्षा पर भी अपनी चिंता व्यक्त की है। मनीष सिसोदिया ने कहा, सरकारी स्कूलों में चल रही अभिभावक-शिक्षक बैठकों (पीटीएम) के दौरान, कई अभिभावकों और शिक्षकों ने कहा कि स्कूलों और कॉलेजों को अब फिर से खोल दिया जाना चाहिए क्योंकि राष्ट्रीय राजधानी में कोविड की स्थिति नियंत्रण में है।

हालांकि, इससे पहले कि राज्य सरकार कोई निर्णय लेती। दिल्ली के शिक्षा मंत्री के रूप में, मैं इस मुद्दे पर माता-पिता और शिक्षकों और यहां तक कि छात्रों से भी सुझाव आमंत्रित करना चाहता हूं। दिल्ली के नागरिक, जिनके बच्चे निजी/सरकारी स्कूलों या कॉलेजों में नामांकित हैं, अपने विचार ई-मेल के माध्यम से भेज सकते हैं। ई-मेल में छात्र और स्कूल / कॉलेज के नाम और एक संक्षिप्त सुझाव शामिल होना चाहिए कि क्या स्कूल या कॉलेज राष्ट्रीय राजधानी में फिर से खुलने चाहिए।

सिसोदिया ने कहा, हम सभी विचारों को एकत्र करेंगे और मामले को देखने वाली समिति के समक्ष पेश करेंगे। डिप्टी सीएम ने यह भी बताया कि 19 जुलाई से पांच लाख से अधिक माता-पिता डिजिटल और शारीरिक रूप से पीटीएम में शामिल हुए हैं। दिल्ली सरकार के शिक्षा निदेशालय (डीओई) ने छात्रों की प्रगति का आकलन करने के लिए सभी सरकारी स्कूलों में पीटीएम शुरू किया है। यह प्रक्रिया 30 जुलाई को समाप्त होगी। राष्ट्रीय राजधानी में स्कूल और कॉलेज कोविड महामारी के प्रकोप के बाद मार्च 2020 से बंद हैं।

दिल्ली विश्वविद्यालय में पोस्ट ग्रेजुएट, पीएचडी प्रोग्राम की दाखिला प्रक्रिया शुरू
आप हमें हमारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मस FACEBOOKINSTAGRAMTWITTER पर भी फोलो कर सकतें है।

सीबीआई ने अवैध कोयला तस्करी मामले में 15 ठिकानों पर की छापेमारी

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने कहा कि उन्होंने कोयला तस्करी मामले में पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश और ओडिशा में 15 स्थानों पर तलाशी ली है। सीबीआई के एक प्रवक्ता ने कहा कि एजेंसी ने ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड के महाप्रबंधक सुभाष मुखोपाध्याय, सेवानिवृत्त महाप्रबंधक सुशांत बनर्जी, कोलियरी एजेंट एच.सी. मोइत्रा, प्रबंधक, सुरक्षा, मुकेश कुमार और निरीक्षक, सुरक्षा, रिंकू बेहरा के ठिकानों की तलाशी ली।

उन्होंने कहा कि एजेंसी ने मुखोपाध्याय के परिसर से 20 लाख रुपये नकद, आभूषण और संपत्ति के दस्तावेज और अन्य आरोपियों के कब्जे से संपत्ति के दस्तावेज, लॉकर की चाबियां और आपत्तिजनक दस्तावेज बरामद किए हैं।

सीबीआई ने अनूप मांझी, ईस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड के महाप्रबंधकों अमित कुमार धर और जयेश चंद्र राय, सुरक्षा के ईसीएल प्रमुख तन दास, क्षेत्र सुरक्षा निरीक्षक कुनुस्तोरिया धनंजय राय और एसएसआई और सुरक्षा प्रभारी कजोरा क्षेत्र देबाशीष मुखर्जी का नाम लेते हुए पिछले साल 27 नवंबर को कथित अवैध कोयला चोरी से संबंधित एक मामला दर्ज किया था।

सीबीआई ने इस साल फरवरी के अंतिम सप्ताह में तृणमूल कांग्रेस सांसद और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी की पत्नी रुजीरा बनर्जी और उनकी भाभी मेनका गंभीर का भी बयान दर्ज किया था। सीबीआई ने विभिन्न राज्यों में 100 से ज्यादा जगहों पर छापेमारी की थी। तृणमूल युवा नेता विनय मिश्रा के भाई विकास मिश्रा को भी गिरफ्तार किया था।

नशे की लत ने दो व्यक्तियों को बनाया अपराधी, ले ली एक रेहडीचालक की जान
आप हमें हमारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मस FACEBOOKINSTAGRAMTWITTER पर भी फोलो कर सकतें है।

आसान जीत के साथ सिंधु क्वार्टर फाइनल में, पदक से 1 कदम दूर

भारत की अग्रणी महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु यहां जारी ओलंपिक खेलों की बैडमिंटन स्पर्धा के महिला एकल मुकाबलों के क्वार्टर फाइनल में पहुंच गई हैं। अब सिंधु कम से कम कांस्य पदक से महज एक कदम दूर हैं। रियो ओलंपिक में रजत पदक जीत चुकीं सिधु ने गुरुवार को मुशाशीनो फॉरेस्ट प्लाजा कोर्ट नम्बर-3 पर डेनमार्क की मिया ब्लीचफेट को सीधे गेम में हराया। सिंधु ने 41 मिनट तक चले मुकाबले में मिया के खिलाफ 21-15, 21-13 से जीत दर्ज की।

23 वर्षीय मिया ने सिंधु पर हावी होने की कोशिश की, इस दौरान कुछ शटल कोर्ट से बाहर गए, जो उनके पक्ष में नहीं गए। इसके लिए भारतीय खिलाड़ी ने कोर्ट को कवर करने की पूरी कोशिश की। अपने प्रतिद्वंद्वी की तुलना में कम गलतियां करते हुए सिंधु ने पहले गेम में 10-5 की बढ़त बना ली। मिया के बैकहैंड फोरकोर्ट पर एक क्रॉसकोर्ट स्मैश ने सिंधु को 11-6 से बढ़त दिला दी। उसी एरिया में एक गलती हुई और सिंधु 12-6 से आगे हो गईं।

हालांकि, 26 वर्षीय सिंधु की बढ़त कम हो रही थी, जब मिया ने वापसी के लिए कई शानदार कोशिशें की। मिया ने स्मैश के साथ कुछ बेहतरीन रैलियां की और स्कोर को 11-13 कर दिया। इसके बाद भारतीय खिलाड़ी ने शानदार खेल दिखाया और डेनमार्क की खिलाड़ी को कोई मौका दिए बिना गेम को 21-15 से अपने नाम कर लिया। दूसरे गेम की शुरूआत हुई तो सिंधु ने स्मैश की झड़ी लगा दी। इस कोशिश के बाद मिया से कई गलतियां हुई, जिसकी बदौलत सिधु ने 5-0 की बढ़त हासिल कर ली। दूसरे गेम में पिछड़ने के बाद मिया की सर्विस भी सही नही हो रही थी।

सिंधु ने इसके बाद फोरहैंड कॉर्नर के करीब एक शानदार क्रॉसकोर्ट लगाया 9-4 से बढ़त बना ली। धीरे- धीरे गेम में भारतीय खिलाड़ी की पकड़ मजबूत होती जा रही थी गेम ब्रेक तक सिधु ने 11-6 की बढ़त हासिल कर ली थी। मिया की ओर से लगातार गलतियां होती रहीं और सिंधु लगातार हावी होती जा रही थीं। सिंधु ने 20-11 से बढ़त बना ली।

इसके बाद डेनमार्क की मिया ने दो गेम प्वाइंट बचाए लेकिन वो अपना मुकाबला बचाने में असफल रहीं। इस तरह भारतीय खिलाड़ी ने जीत के बाद क्वार्टरफाइनल में जगह बना ली है। सिंधु ने ग्रुप जे में टॉप पर रहते हुए नॉकआउट दौर के लिए क्वालीफाई किया था। उन्होंने अपने दोनों ग्रुप चरण के मैच जीते थए। बैडमिंटन में अब सिंधु से ही पदक की उम्मीद है। पुरुष एकल में बी. साई प्रणीत और पुरुष युगल में सात्विक साईराज वेंकीरेड्डी तथा चिराग शेट्टी की जोड़ी पहले ही बाहर हो चुकी है।

मीराबाई चानू रजत पदक के साथ पहुंचीं घर, मिला सम्मान
आप हमें हमारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मस FACEBOOKINSTAGRAMTWITTER पर भी फोलो कर सकतें है।

मनोज बाजपेयी ने नीना गुप्ता को लेकर कही ये बड़ी बात

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अभिनेता मनोज वाजपेयी ने आगामी सस्पेंस थ्रिलर डायल 100 में अभिनेत्री नीना गुप्ता और साक्षी तंवर के साथ काम करने के बारे में बात की है। बाजपेयी ने कहा, नीना गुप्ता हमारी सीनियर हैं और वह अपनी हर भूमिका में खुद को रखती हैं। वह इसे अपने अंदर से निभाती हैं और कोई झूठा नोट नहीं है – यह सब उनके अपने जीवन के अनुभवों से आया है और यह उन्हें बहुत प्यारा और प्रभावशाली बनाता है।

साक्षी के बारे में बात करते हुए उन्होंने खुलासा किया कि वह अभिनेत्री को कई सालों से जानते हैं। बाजपेयी ने कहा, साक्षी तंवर वह है जिसे मैं कई वर्षों से जानता हूं जब वह कॉलेज में थी और मैं थिएटर में थोड़ा ज्यादा अनुभवी था। मैंने उनके साथ एक नाटक किया है जब वह ड्रामेटिक्स सोसाइटी में थी जहां उन्होंने मुख्य भूमिका निभाई थी और मैं निर्देशक था, इसलिए मैं उसे उसी समय से जानता हूं।

इसका निर्देशन रेंसिल डीसिल्वा ने किया है, जिनके साथ मनोज ने फिल्म अक्स में काम किया था। उन्होने कहा, रेंसिल डिसिल्वा ने फिल्म अक्स लिखी है जो मेरे दिल के बहुत करीब है और कुछ ऐसा जिसे मैं कभी नहीं भूल सकता। बस इतना ही – वह वहां एक लेखक थे और अब मुझे उनके निर्देशन में उनके साथ काम करने का मौका मिला।

वह बहुत ही नर्म और मृदुल, काफी उद्यमी और मानवीय व्यवहार के प्रति चौकस इंसान हैं। अभिनेता ने कहा, वह एक नरम टेडी बियर की तरह है जो आपकी बात सुनने के लिए है और जब भी आपको उनकी आवश्यकता होती है वह हर समय आपके साथ रहते हैं। वह बहुत ही मृदुभाषी व्यक्ति है और मुझे उनके साथ काम करने में बहुत मजा आता है। फिल्म 6 अगस्त को जी5 पर रिलीज होगी।

कारगिल विजय दिवस समारोह में शेरशाह का ट्रेलर हुआ लॉन्च
आप हमें हमारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मस FACEBOOKINSTAGRAMTWITTER पर भी फोलो कर सकतें है।

आगामी महीनों में आर्थिक सुधार मजबूत होने की उम्मीद : PHD Chamber EBM Index

कोविड-19 की दूसरी लहर के भयानक प्रभाव के कारण मई, 2021 में आर्थिक सुधार धीमा हो गया, लेकिन देश के कई हिस्सों में नए कोरोनोवायरस मामलों में गिरावट और धीरे-धीरे अनलॉक होने से देश में आर्थिक सुधार की वापसी का रास्ता साफ हो गया है। पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ने एक बार फिर आर्थिक सुधार की बात अपने नवीनतम इकोनॉमिक बिजनेस मोमेंटम (आरबीएम) इंडेक्स में कही है।

पीएचडी सूचकांक 25 प्रमुख आर्थिक और व्यावसायिक संकेतकों पर आधारित है, जिनका देश के विकास पर असर पड़ता है। पीएचडीसीसीआई 25 प्रमुख आर्थिक और व्यावसायिक संकेतकों का एक संयुक्त सूचकांक है, जिसका आधार वर्ष 2018-19 है, जो अर्थव्यवस्था के व्यापक परिप्रेक्ष्य को प्रस्तुत करने के लिए मांग और आपूर्ति संकेतकों पर विचार करता है। इनमें स्टील, इंटरमीडिएट गुड्स, मर्चेडाइज एक्सपोर्ट, जीएसटी कलेक्शन और सेंसेक्स शामिल हैं। ईबीएम इंडेक्स के अनुसार, प्रमुख आर्थिक और व्यावसायिक संकेतकों ने मई 2021 में मई 2020 की तुलना में अधिक वृद्धि दिखाई है।

25 प्रमुख आर्थिक और व्यावसायिक संकेतकों का सूचकांक मई 2021 के लिए 94.8 पर रहा, जो 2018-19 100 के आधार पर मई 2020 के लिए पंजीकृत 85.7 से अधिक था। पीएचडीसीसीआई के अध्यक्ष संजय अग्रवाल ने कहा कि प्रमुख आर्थिक संकेतकों में सुधार की प्रवृत्ति आने वाले महीनों में भारतीय अर्थव्यवस्था के मजबूत विकास प्रक्षेपवक्र (ट्रैजेक्टरी) का संकेत दे रही है।

हालांकि, क्रमिक रूप से पीएचडीसीसीआई सूचकांक ने मई 2021 के लिए गिरावट को 94.8 के स्तर पर दिखाया है, जबकि अप्रैल 2021 के लिए 100.3 की तुलना में, कई राज्यों में आंशिक/पूर्ण लॉकडाउन के कारण व्यापार और उद्योग पर दूसरी लहर का भारी प्रभाव पड़ा है। अभी भी श्रम की कमी, वस्तुओं की आसमान छूती कीमतें और उदास मांग जैसी स्थिति है।

मई की आर्थिक गतिविधि और ईबीएम इंडेक्स की गति के आधार पर वित्तवर्ष 2021-22 की पहली तिमाही के लिए काफी उच्च विकास प्रक्षेपवक्र का अनुमान है। अग्रवाल ने कहा कि पीएचडीसीसीआई ईबीएम इंडेक्स और तिमाही जीडीपी विकास दर 0.9 पर अत्यधिक सहसंबद्ध हैं, जैसा कि दर्शाया गया है।

अग्रवाल ने कहा कि मांग को समर्थन देने और उत्पादन संभावनाओं पर गुणक प्रभाव, कारखानों में रोजगार के विस्तार, पूंजी निवेश के विस्तार और विकास पथ के समग्र पुण्यचक्र के लिए प्रभावी नीतिगत उपायों की जरूरत है। उन्होंने कहा कि उपभोक्ताओं और व्यवसायों के लिए ब्याज दरों को कम करने, एमएसएमई के लिए जमीनी स्तर पर व्यापार करने में आसानी और लोगों की व्यक्तिगत डिस्पोजेबल आय को बढ़ाने के लिए कम कर व्यवस्था के लिए कम अनुपालन की आवश्यकता है।

उच्च विकास पथ के पुनर्निर्माण के लिए, सरकार को राष्ट्रीय इन्फ्रा पाइपलाइन व्यय को आगे बढ़ाना चाहिए, क्योंकि निजी निवेश कम अवधि में नहीं आ रहा है। बुनियादी ढांचे पर बढ़ा हुआ खर्च अर्थव्यवस्था में समग्र मांग को फिर से जीवंत करने के लिए एक गुणक प्रभाव देगा। निस्संदेह, आत्मनिर्भर भारत के दृष्टिकोण को साकार करने के लिए बुनियादी ढांचे का मजबूत विकास प्रमुख घटक है।

उन्होंने कहा कि विभिन्न कल्याण योजनाओं के तहत शहरी और ग्रामीण गरीबों के लिए अधिक से अधिक प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण पर विचार करने की जरूरत है, इसके अलावा दिवाली तक सूखा राशन मुफ्त वितरण के रूप में प्रधानमंत्री द्वारा पहले ही घोषित किया गया है।

अग्रवाल ने कहा कि अगले 2 महीनों में यानी सितंबर 2021 तक कम से कम आधी आबादी का टीकाकरण करने का लक्ष्य है। पीएचडीसीसीआई ईबीएम (आर्थिक और व्यावसायिक गति) सूचकांक ने अप्रैल 2020 के 78.3 के निचले स्तर से अप्रैल 2021 के लिए 100.3 और मई 2021 के लिए 94.8, जबकि 2018-19100 के आधार के साथ मई 2020 के लिए 85.7 की तुलना में निचले स्तर से स्थिर सुधार दिखाया है।

पीएचडीसीसीआई ईबीएम इंडेक्स 25 प्रमुख आर्थिक और व्यावसायिक संकेतकों का एक संयुक्त सूचकांक है, जिसका आधार वर्ष 2018-19100 है, जो अर्थव्यवस्था के व्यापक परिप्रेक्ष्य को प्रस्तुत करने के लिए मांग और आपूर्ति संकेतकों पर विचार करता है। 25 संकेतकों में आईआईपी कंज्यूमर ड्यूरेबल गुड्स, आईआईपी कंज्यूमर नॉन-ड्यूरेबल गुड्स, आईआईपी कैपिटल गुड्स, आईआईपी इंटरमीडिएट गुड्स, कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, पेट्रोलियम रिफाइनरी उत्पाद, उर्वरक, स्टील, सीमेंट, बिजली, पेट्रोलियम उत्पादों की खपत शामिल हैं। एक्सपोर्ट मर्चेडाइज, एक्सपोर्ट सर्विसेज, इंडिया फ्रेट ट्रैफिक, क्रेडिट टू एग्रीकल्चर, क्रेडिट टू इंडस्ट्री, क्रेडिट टू सर्विस सेक्टर, पर्सनल लोन, जीएसटी कलेक्शन, सेंसेक्स, एफडीआई इक्विटी इनफ्लो, बाहरी वाणिज्यिक उधार और बेरोजगारी शामिल है।

लॉजिटेक ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस वाला व्हाइटबोर्ड कैमरा भारतीय बाजार में किया पेश
आप हमें हमारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मस FACEBOOKINSTAGRAMTWITTER पर भी फोलो कर सकतें है।

ममता बनर्जी से मिले केजरीवाल, बोले-राजनीतिक मुद्दों पर हुई बात

बुधवार शाम पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के बीच दिल्ली में मुलाकात हुई। इस मुलाकात को विपक्षी दलों को एक साथ लाने की मुहिम के तौर पर देखा जा रहा है। मुलाकात के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि वह ममता बनर्जी को विधानसभा चुनाव में मिली जीत की बधाई देने गए थे। इस दौरान राजनीतिक मुद्दों पर भी बात हुई।

मुलाकात के दौरान ममता बनर्जी के भतीजे एवं सांसद अभिषेक बनर्जी भी मौजूद रहे। यह मुलाकात अभिषेक बनर्जी के दिल्ली स्थित सरकारी आवास पर ही हुई।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस मुलाकात के बाद कहा, बुधवार शाम ममता दीदी से मुलाकात की। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में उनकी शानदार जीत के बाद से यह हमारी पहली मुलाकात थी। हमने उन्हें अपनी शुभकामनाएं दीं और उनके साथ कई राजनीतिक मुद्दों पर चर्चा की।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष व आम आदमी पार्टी के विधायक राघव चड्ढा भी इस दौरान मौजूद रहे। दोनों मुख्यमंत्रियों के बीच यह मुलाकात भाजपा के खिलाफ विपक्ष को एकजुट करने की मुहिम के तौर पर देखी जा रही है। इससे पहले बुधवार शाम ममता बनर्जी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से भी मुलाकात की।

सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद ममता बनर्जी ने कहा, हमने पेगासिस जासूसी मामले पर बातचीत की। बातचीत सकारात्मक रही। बीजेपी को हराने के लिए सब को एक होना जरूरी है। हम (टीएमसी) अकेले कुछ नहीं है। सबको एक साथ मिलकर काम करना पड़ेगा। हम वीआईपी नहीं हैं, हम लोग साधारण इंसान हैं। ममता बनर्जी ने कहा, हम सड़क के लोग हैं। सरकार कथित जासूसी मामले पर जवाब क्यों नहीं दे रही है। अगर लोकसभा, राज्यसभा में चर्चा नहीं होगी तो कहां चर्चा होगी। सरकार को जवाब देना चाहिए।

हैदराबाद के पास मध्यम भूकंप के महसूस हुए झटके
आप हमें हमारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मस FACEBOOKINSTAGRAMTWITTER पर भी फोलो कर सकतें है।

नशे की लत ने दो व्यक्तियों को बनाया अपराधी, ले ली एक रेहडीचालक की जान

इंसान नशे की गलियों से गुजरता हुआ चलते चलते कब अपराध के दलदल में धंस जाता है उसे इस बात का एहसास तब होता है जब उसकी वजह से किसीको अपनी जान से हाथ धोना पड़े और उसकी सजा भुगतने के लिए उसे सारी उम्र अपने आपको कोसना पड़े।

ऐसा ही एक मामला फरीदाबाद में सामने आया है जिसमें क्राइम ब्रांच डीएलएफ ने एक रेहड़ीचालक की हत्या के जुर्म में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए आरोपियों में भोला उर्फ भोलू उर्फ फौजी तथा आकाश उर्फ बोडिया का नाम शामिल है जो फरीदाबाद के अनखीर गांव के रहने वाले हैं।

पुलिस को दी अपनी शिकायत में मृतक की मां ने बताया कि वह फरीदाबाद के सेक्टर 21 में रहते हैं और उनका बेटा दीपक रेहडी फेरी का काम करता है। दिनांक 20-21 जुलाई की रात करीब 9:00 बजे उन्हें सूचना मिली कि दो लोगों ने उनके बेटे दीपक से पैसे छीनने की कोशिश की जिसमें उसे सिर में चोट लगी है और उसे सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

जिस समय दीपक को अस्पताल में भर्ती करवाया गया वह बेहोशी की हालत में था। बाद में इलाज के दौरान दीपक की मृत्यु हो गई। मृतक दीपक की मां की शिकायत के आधार पर आरोपियों के खिलाफ हत्या तथा स्नैचिंग की धाराओं के तहत थाना एनआईटी में मुकदमा दर्ज करके आरोपियों की तलाश शुरू कर दी गई।

पुलिस आयुक्त श्री ओपी सिंह ने मामले में तुरंत संज्ञान लेते हुए इस वारदात में शामिल आरोपियों को जल्द से जल्द तलाश करके गिरफ्तार करने के निर्देश दिए जिनके तहत कार्य करते हुए क्राइम ब्रांच डीएलएफ की टीम ने गुप्त सूत्रों के तकनीकी की सहायता से दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

आरोपियों के कब्जे से वारदात में प्रयोग डंडा और दीपक से छीने गए ₹700 बरामद किए गए। पूछताछ में सामने आया कि दोनों आरोपी आपस में दोस्त हैं तथा नशा करने के आदी हैं और इसी नशे की आपूर्ति के चलते उन्होंने छीनाझपटी की वारदात को अंजाम दिया था।

आरोपियों ने बताया कि लॉकडाउन की वजह से कोई भी उन्हें काम पर नहीं रखता था और नशे करने के लिए उन्हें पैसों की जरूरत पड़ती थी जिसके लिए उन्होंने रेहड़ीचालक दीपक से पैसे छीनने की कोशिश की थी जिसमें उन्होंने दीपक के सिर में डंडा मार दिया था और उसकी मृत्यु हो गई।

लावारिस हालत में घूमती मिली 10 वर्षीय नाबालिग लड़की को पुलिस ने किया परिजनो के हवाले
आप हमें हमारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मस FACEBOOKINSTAGRAMTWITTER पर भी फोलो कर सकतें है।

लावारिस हालत में घूमती मिली 10 वर्षीय नाबालिग लड़की को पुलिस ने किया परिजनो के हवाले

थाना मुजेसर की पुलिस टीम ने लावारिस हालत में घूम रही 10 वर्षीय लड़की को उसके परिजनों तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई है।

पुलिस थाना मुजेसर में तैनात मुख्य सिपाही विनोद और महिला सिपाही मंजू गश्त पर थे रात्रि के करीब 10.00 बजे उनको थाना मुजेसर एरिया में स्थित मच्छी मार्किट के पास एक किशोरी लावारिस हालत में घूमते हुए मिली, पुलिस को देखकर वह डर गई।

पुलिस टीम को संदेह हुआ की लड़की शायद मुसीबत में है तो उससे पूछताछ की जिससे पता चला कि वह अपने घर का पता भुल गई है। उसने बताया कि वह कुछ समय पहले ही उत्तर प्रदेश के अपने गांव से अपने माता पिता के साथ आई हैं।

लडकी के बारे में पुलिस कंट्रोल रुम के माध्यम से सभी थाना चौकियों में सूचना प्रसारित की गई। लडकी को साथ लेकर आस पास के क्षेत्र में पता किया गया तो लड़की के संजय कॉलोनी एरिया के होने की जानकारी प्राप्त हुई। पुलिस टीम इसके पश्चात लड़की को लेकर संजय कॉलोनी एरिया में पहुंची और लड़की के परिजनों की तलाश करके लड़की को सकुशल उनके हवाले कर दिया।

अपनी बच्ची को देखकर लड़की के परिजन बहुत खुश हुए उन्होंने कहा कि वह काफी समय से अपनी बेटी की तलाश कर रहे थे।बच्ची के माता-पिता कम्पनी में काम करते है। माता पिता के घर के जाने के पश्चात लड़की घर से बाहर चली गई और वापिस आते समय घर का रास्ता भूल गई।

लड़की के पिता से बात करने पर पता चला कि वह अभी गोरखपुर से फरीदाबाद आए है। बच्ची को अभी यहां के रास्तों के बारे में नही पता है। पुलिस टीम ने लडकी को परिजनो के हवाले करते हुए सावधानीपूर्वक अपने बच्चो का ख्याल रखने की हिदायत दी। लड़की के परिजनों ने पुलिस टीम द्वारा किए गए सराहनीय कार्य के लिए उनका तहे दिल से धन्यवाद किया।

खोरीवासियों द्वारा सड़क पर जाम लगाने वाले 5 लोगों को गिरफ्तार कर भेजा जेल, रास्ता अवरुद्ध करने में शामिल अन्य 9 की तलाश जारी
आप हमें हमारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मस FACEBOOKINSTAGRAMTWITTER पर भी फोलो कर सकतें है।

खोरीवासियों द्वारा सड़क पर जाम लगाने वाले 5 लोगों को गिरफ्तार कर भेजा जेल, रास्ता अवरुद्ध करने में शामिल अन्य 9 की तलाश जारी

पुलिस अधिकारियों के समझाने के बावजूद रास्ता जाम व कोविड-19 का उल्लंघन करने और आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 51 व भारतीय दंड संहिता की धारा 114,147,149,186,188,283 व 336 के तहत मुकदमा दर्ज करके 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

बड़ी धाराओं के अंतर्गत किया गया मुकदमा दर्ज नहीं हो सकी किसी की भी जमानत। खोरी वासियों द्वारा सड़क जाम की वजह से आमजन को आवागमन में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा था। पुलिस अधिकारियों ने मौके पर जाकर लोगों को आम सड़क अवरुद्ध न करने के लिए समझाया गया था

गिरफ्तार किए गए आरोपियों में चांद मोहम्मद, दीपक, अमित, मोहम्मद हसन और रबीना का नाम शामिल है। जिन्हें आज अदालत में पेश किया गया और वहां से जेल भेज दिया गया है

इसके अलावा वीडियोग्राफी में दिखाई दे रहे रास्ते को जाम करने वाले 9 आरोपियों की पुलिस द्वारा तलाश की जा रही है जिनमें ब्रहम सिंह, आया प्रधानी, रासिद खान, मौसीम खान, रामदास, रहमान मुल्ला, समसु प्रधान, इमामुद्दीन और इकबाल का नाम शामिल है।

पुलिस उपायुक्त डॉ अंशु सिंगला ने कहा कि माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के अनुपालना हर हाल में करवाई जाएगी इसलिए नागरिकों से अनुरोध है कि माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का सम्मान करते हुए प्रशासन के आदेशों का पालन करें तथा जल्द से जल्द अपने मकान खाली कर दें ताकि अतिक्रमण हटाने की प्रक्रिया को पूरा किया जा सके।

वाहन चोर गिरोह के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए क्राइम ब्रांच 48 ने चार आरोपियों को किया गिरफ्तार
आप हमें हमारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मस FACEBOOKINSTAGRAMTWITTER पर भी फोलो कर सकतें है।
×

Hello!

Click one of our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to info@jarasuniye.com

× How can I help you?