अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के साप्ताहिक कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में हिस्सा लेते हुए थाना एनआईटी प्रभारी इंस्पेक्टर गीता ने महिलाओं के विरुद्ध घटित हो रहे अपराधों के बारे में महिलाओं को जागरूक किया। यह कार्यक्रम वन स्टॉप सेंटर द्वारा आयोजित किया गया था जिसमें महिला पुलिस के साथ-साथ महिला एवं बाल विकास के मुख्य अधिकारीगण भी मौजूद रहे।

इस कार्यक्रम में समाज के विभिन्न वर्गों से आई महिलाओं ने हिस्सा लिया। इंस्पेक्टर गीता ने घरेलू हिंसा के बारे में महिलाओं को जागरूक करते हुए बताया कि इस पुरुष प्रधान समाज में महिलाओं के अधिकारों को दबाकर विभिन्न प्रकार से उनका शोषण किया जाता है और सामाजिक बंधनों के चलते महिलाएं उनके खिलाफ आवाज नहीं उठा पाती।

पुरुष चाहे सौ तरह के बुरे काम करके घर आए परंतु इसका दोष भी महिलाओं के ऊपर मढ़ दिया जाता है जिसका खामियाजा उन्हें गाली गलौज या मारपीट के रूप में झेलना पड़ता है। प्रकृति ने महिला और पुरुष के बीच कोई भेदभाव नहीं किया परंतु कुछ नासमझ पुरुष महिलाओं को प्रताड़ित करना अपना जन्मसिद्ध अधिकार समझते हैं।

महिलाओं को इस प्रकार के अपराधों के विरुद्ध जागरूक करते हुए इंस्पेक्टर गीता ने कहा की महिलाओं को उनके विरुद्ध घटित हो रहे घरेलू व सामाजिक अपराधियों के विरुद्ध आवाज उठानी चाहिए और इसकी शिकायत पुलिस प्रशासन से करनी चाहिए।

पुलिस प्रशासन द्वारा इन अपराधों के आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी इसलिए महिलाएं जहां कहीं भी महिला विरुद्ध अपराध घटित होता देखें तो इसकी सूचना 1091 पर देकर उन महिलाओं के विरुद्ध अपराधों में कमी लाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दें। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि उन्हें किसी भी प्रकार से डरने की जरूरत नहीं है।

पुलिस प्रशासन द्वारा इस प्रकार के अपराधों से पीड़ित महिलाओं को संरक्षण दिया जाएगा। महिलाओं की सुरक्षा के लिए पुलिस थानों के साथ-साथ दुर्गा शक्ति का गठन किया गया है जो अपराधियों के विरुद्ध महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करने में शत प्रतिशत योगदान देगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

Powered by WhatsApp Chat

× How can I help you?