loudspeaker azan

इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रोफेसर संगीता श्रीवास्तव के अजान के लाउडस्पीकर से नींद में खलल पड़ने वाले लेटर पर मचे बवाल के बाद ,प्रयागराज के आईजी रेंज ने अपने रेंज में आने वाले चारों जिलों के डीएम व एसपी को पत्र लिखकर रात के 10:00 से सुबह 6:00 तक लाउडस्पीकर (Loud Speakers) पर किसी भी मंदिर या मस्जिद में चलने वाले भजन या अजान पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस प्रतिबंध को इलाहाबाद के साथ-साथ पूरे उत्तर प्रदेश में कब लागू किया जाएगा।

आईजी रेंज में कहा है कि हाईकोर्ट व सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक किसी भी सार्वजनिक स्थल मंदिर या मस्जिद में रात के 10:00 से सुबह 6:00 तक लाउडस्पीकर (Loud Speakers) नहीं बजाया जाएगा। जिससे किसी की पर्सनल लाइफ डिस्टर्ब ना हो। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि शादी विवाह या अन्य किसी पारिवारिक आयोजन पार्टी में विशेष अनुमति लेकर विशेष वॉल्यूम के साथ डीजे रात के 12:00 बजे तक बजाया जा सकता है। साथ ही उन्होंने कहा कि दिन में भी ऐसे लाउड स्पीकर की आवाज को विशेष वॉल्यूम के तहत पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम के अंतर्गत मैनेज किया जाएगा तथा रात में से पूरी सख्ती के साथ रोका जाएगा।

मिली जानकारी के अनुसार गाजीपुर से सांसद अफजाल अंसारी ने पिछले साल अजान को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की थी। जिस पर सुनवाई करते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा था की अजान मुस्लिम समुदाय के आस्था का मुद्दा है, लेकिन लाउडस्पीकर उनकी आस्था में नहीं शामिल हो सकता है। बता दें कि इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रोफेसर संगीता श्रीवास्तव के 3 मार्च के को लिखे स्प्लटर के वायरल होने के बाद मुस्लिम समुदाय ने खुद पहल करते हुए उनके घर के इलाके में पढ़ने वाले मस्जिद से अजान के लाउड स्पीकर का वॉल्यूम कम करवाया गया है तथा उसके स्पीकर का दिशा भी उनके घर से बदल कर दूसरी तरफ कर दिया गया है। गौरतलब है कि प्रोफेसर संगीता श्रीवास्तव ने 3 मार्च को प्रयागराज के डीएम एसएसपी एसपी को पत्र लिखकर कहा था कि सुबह के समय होने वाली अजान से उनकी नींद में खलल पड़ता है। जिससे उनका पूरा दिन खराब हो जाता है और उनका मन काम में भी नहीं लगता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

Powered by WhatsApp Chat

× How can I help you?