national clean ganga mission
यूनेस्को नई दिल्ली ने राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन (National Clean Ganga Mission) और अन्य सहभागियों के साथ मिलकर स्कूल के बच्चों और शिक्षकों के साथ ‘विश्व जल दिवस 2021’के अवसर पर एक पर्यावरण अनुकूल कार्यक्रम का आयोजन किया। इस अवसर पर जल संरक्षण जागरूकता कार्यक्रम के विजेताओं को सम्मानित किया गया और पुरस्कार हासिल करने वाली इनकी एनिमेटेड शॉर्ट फिल्मों की स्क्रीनिंग भी गई। 

यूनेस्को ने राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन (National Clean Ganga Mission), यूनाइटेड स्कूल ऑर्गेनाइज़ेशन (यूएसओ), वाटर डाइजेस्ट और भारत आधारित वैश्विक एनिमेशन समूह टूंज़ मीडिया ग्रुप के साथ मिलकर पिछले साल सितंबर महीने में विद्यार्थियों के लिए इस कार्यक्रम की शुरुआत की थी। 

“H2Ooooh! – Waterwise program for children of India” शीर्षक आधारित इस नवाचार कार्यक्रम ने देशभर में 6-14 वर्ष की आयु के स्कूल विद्यार्थियों को जल संरक्षण और इसके सदुपयोग के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए एनिमेटेड शॉर्ट वीडियो बनाने वाली कहानी और विचारों को इस कार्यक्रम में पंजीकृत करने के लिए प्रेरित किया था। कार्यक्रम के अंतर्गत 93 विद्यार्थियों को शॉर्टलिस्ट किया गया, जिनमें आठ दिव्यांग विद्यार्थी भी शामिल हैं।

इस कार्यक्रम के अतर्गत इन विद्यार्थियों को टूंज़ एनिमेशन मेंटर्स के द्वारा स्क्रिप्ट लेखन, कैरेक्टर स्कैचिंग और स्टोरीबोर्डिंग सहित 2डी एनिमेशन का आधारभूत प्रशिक्षण दिया गया। इन विद्यार्थियों का चयन देशभर के 43 स्कूलों के 17,000 प्रतिभागियों की विभिन्न स्तर पर की गई स्क्रीनिंग के बाद किया गया था। यूनेस्को नई दिल्ली के निदेशक एरिक फाल्ट ने इस अवसर पर कहा कि “हम इस अनोखे और विशेष कार्यक्रम में सहयोग करने वाले हमारे सभी सहभागियों का धन्यवाद करते हैं।

हमें आशा है कि इस कार्यक्रम और हमारे सहभागियों के माध्यम से बच्चों ने जल के महत्व के बारे में बहुत कुछ सीखा होगा। जल एक ऐसा पदार्थ है, जो हमारे घर, भोजन, संस्कृति, स्वास्थ्य, शिक्षा, अर्थशास्त्र और प्राकृतिक पर्यावरण की अखंडता को बनाए रखने के लिए बेहद मूल्यवान है”।इस अवसर पर भारत सरकार के राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के महानिदेशक राजीव रंजन मिश्र ने कहा कि “बच्चों और युवाओं की रचनात्मक को किसी सीमा में नहीं बांधा जा सकता। मैं यूनेस्को की इस बात के लिए सराहना करता हूं कि उन्होंने इस अभिनव विचार के साथ एनिमेशन फिल्मों के माध्यम से विद्यार्थियों को जल के महत्व को समझाकर उन्हें #WaterWise बनाने और व्यावहारिक कार्य करने के दौरान सीखने का मौका दिया।

मैं अपने सभी युवा मित्रों को शुभकामनाएं देता हूं और उम्मीद करता हूं कि समझदारी पानी के बेहतर प्रबंधन में हमारी मदद करेगी”। टूंज़ मीडिया समूह केसीईओ पी. जय कुमार ने आशा व्यक्त करते हुए कहा कि इस तरह के कार्यक्रम जल संरक्षण के प्रति बच्चों में जागरूकता और उत्साह बढ़ाने का काम करेंगे। इस अवसर पर राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन (National Clean Ganga Mission) (एनएमसीजी) और ट्री क्रेज़ फाउंडेशन (TREE Craze Foundation) द्वारा आयोजित की जाने वाली ऑनलाइन प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता “गंगा क्वेस्ट 2021”को लॉन्च भी किया गया। इस ऑनलाइन प्रतियोगिता की नींव वर्ष 2019 मेंरखी गई थी।

अब तक इस प्रतियोगिता में सभी आयु वर्ग के छात्रों ने शानदार उत्साह और प्रतिक्रिया दर्ज कराई है। वर्ष 2020 में नमामि गंगे गंगा क्वेस्ट में करीब 11.5 लाख प्रतिभागियों ने भाग लिया था। प्रतिभागी इस बार की प्रतियोगिता में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए gangaquest.com पर विज़िट कर सकते हैं। राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन (National Clean Ganga Mission) के महानिदेशक राजीव रंजन मिश्र ने कहा कि, “नमामि गंगे मिशन जनता की भागीदारी सबसे महत्वपूर्ण क्षेत्र है।

यह प्रतियोगिता लोगों को हमारे देश की नदियों के बारे में जानने और उनका सम्मान करने प्रति प्रेरित करेगी।” ट्री क्रेज़ फाउंडेशन की सीईओ सुश्री भावना बदोला ने गंगा क्वेस्ट 2021 के बारे में एक प्रस्तुति दी। उन्होंने बताया कि इस प्रतियोगिता में हिन्दी और अंग्रेज़ी दोनों भाषाओं में भाग लिया जा सकता है। ख़ास बात यह है कि इस साल प्रतियोगिता में अंतरराष्ट्रीय प्रतिभागी भी भाग ले सकते हैं। इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन (एनएमसीजी) के कार्यकारी निदेशक रॉज़ी अग्रवाल, स्कूल प्रधानाचार्य और पुरस्कार विजेता उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

Powered by WhatsApp Chat

× How can I help you?