anand swaroop shukla

इलाहबाद यूनिवर्सिटी की VC संगीता श्रीवास्तव के बाद अब उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री आनंद स्वरुप शुक्ला (Anand Swaroop Shukla) ने भी मस्जिद में लगे अजान के लिए लाउडस्पीकर पर अपनी आवाज़ उठाई है। उन्होंने बलिया के जिलाधिकारी को चिट्ठी लिखकर शोर से होने वाली दिक्कतो की शिकायत करी है। जिसमे उन्होंने मस्जिदों पर लगे लाउडस्पीकर से होने वाले अजान और अनाउंसमेंट से योग, पूजा और पढ़ने में कठिनाईयों का सामने करने की बात कही है।

मुस्लिम समुदाय अपने दिन भर की पांचों नमाज़ों के लिए बुलाने के लिए ऊँचे स्वर में जो शब्द कहते हैं, उसे अज़ान कहते हैं। अब इस अज़ान से काफी सारे मंत्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। आए दिन कभी किसी मंत्री का ब्यान सामने आता है तो कभी किसी। हाल ही में योगी आदित्यनाथ सरकार में मंत्री आनंद स्वरुप शुक्ला (Anand Swaroop Shukla) को भी अज़ान से बड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने डीएम को दो पन्नो में शिकायत भरी चिट्टी लिखी है। जिसमे उन्होंने कहा है कि उनके घर के पास ही मस्जिद है और साथ ही उन्होंने बताया कि विध्यालय के प्रभंधक, और बच्चो ने मुझे शिकायत करी थी। कि कैसे उन्हें पढ़ने और पढ़ाने में परेशानी हो रही है। आगे उन्होंने बताया कि मस्जिद में दिन भर चंदा देने के लिए लोगो को बोला जाता है। इससे मंत्री के रोज के दिनचर्य पर असर पड़ रहा है। और साथ ही लोगो को भी योग, ध्यान और पूजा-पाठ में दिक्कत आती है।

आगे शुक्ला ने कोर्ट का हवाला देते हुए अपने पत्र में कहा कि मस्जिद में लगे ज्यादा लाउडस्पीकर कोर्ट के नियमो का उल्लंघन है। मंत्री के मुताबिक मस्जिदों में लगे लाउडस्पीकर की संख्या कोर्ट के निर्धारित नियमो के अनुसार ही होनी चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा की लाउडस्पीकर अपनी तय समयसीमा को देख कर समय पर चलना और बंद होना चाहिए। वहीं शुक्ला ने हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के अलग-अलग दिशानिर्देशों का भी हवाला दिया है। मंत्री शुक्ला ने बताया कि मंदिरों में कभी भी ऐसा अनाउंसमेंट नहीं होता सिर्फ धार्मिक अनुष्ठानो के लिए ही लाउड स्पीकर का इस्तेमाल होता है। जबकि मस्जिदों में सुबह 4 बजे से ही लाउडस्पीकर का इस्तेमाल शुरू हो जाता है। इसे छोटे बच्चो की नींद और बुजुर्ग लोगो को दिक्कत आती है।

Written By-Nandita Mehra

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

Powered by WhatsApp Chat

× How can I help you?