india and US

भारत और अमेरिका (India and US) के बीच चल रहे संयुक्त स्पेशल फोर्सेज़ के युद्धाभ्यास वज्रप्रहार 2021 का 11वां संस्करण 31 मार्च को समाप्त हो गया। दोनों देशों के बीच युद्धाभ्यास वज्रप्रहार मार्च 2021 में हिमाचल प्रदेश के बकलोह में स्थित स्पेशल फोर्सेज़ प्रशिक्षण स्कूल में आयोजित किया गया। दोनों देशों के स्पेशल फोर्सेज़ द्वारा संयुक्त अभ्यास भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका (India and US) के बीच बारी बारी से संयुक्त मिशन योजना और सामरिक रणनीति जैसे क्षेत्रों में सर्वश्रेष्ठ परिपाटियों तथा अनुभवों को साझा करने के साथ-साथ दोनों राष्ट्रों के स्पेशल फोर्सेज़ के बीच युद्ध कौशल में सुधार करने हेतु आयोजित किया जाता है।

द्विपक्षीय सैन्य अभ्यास और रक्षा संबंधी आदान-प्रदान मित्र देशों के बीच द्विपक्षीय रक्षा सहयोग को मजबूत करने का एक महत्वपूर्ण आयाम हैं। ऐसे आयोजनों के दौरान प्रतिभागी राष्ट्रों के सैन्य बल आपसी प्रशिक्षण और संयुक्तता के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद के खतरों का मुकाबला करने के साझा उद्देश्य के साथ विभिन्न प्रकार के खतरों को निष्प्रभावी बनाने के लिए साथ मिलकर अनेक अभियानों का प्रशिक्षण पाते हैं, योजना बनाते हैं तथा ऐसी सैन्य कार्रवाइयों को अंजाम देते हैं।

india US flag

बता दें कि दोनों स्पेशल फोर्सेज के बीच पिछला युद्धाभ्यास सिएटल के संयुक्त बेस लुईस मैककॉर्ड में हुआ था। जिसमें भारत की 45 सदस्यीय पर एसएफ की टीम अमेरिका पहुंची थी। यह युद्धाभ्यास 28 अक्टूबर तक चला था।भारत और अमेरिका (India and US) के बीच समाप्त हुए युद्धाभ्यास वज्रप्रहार का उद्देश्य दोनों देशों के आपसी सैन्य सहयोग, सेना के विशेष बलों की रणनीतियों का पारस्परिक आदान-प्रदान करने, सशस्त्र बलों की क्रियाशीलता बढ़ाने तथा वैश्विक स्तर पर आतंकवाद से निपटने के उद्देश्य से किया जाता है।

सैन्य अधिकारियों ने बताया की युद्धभ्यास वज्र प्रहार शुरुआत वर्ष 2010 में हुई थी।बता दें कि वर्ष 2012 से 2015 तक इस युद्धभ्यास का आयोजन नहीं किया जा सका था। जिसके बाद दोबारा इस युद्धभ्यास की शुरुआत की गई।इस साल हिमाचल प्रदेश के बकलोह में स्थित स्पेशल फोर्सेज़ प्रशिक्षण स्कूल में इस युद्धभ्यास का आयोजन किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

Powered by WhatsApp Chat

× How can I help you?