IAS mukhmeet singh bhatia

वरिष्ठ आईएएस अधिकारी मुखमीत एस. भाटिया (IAS Mukhmeet Singh Bhatia) को भारत सरकार के श्रम और रोजगार मंत्रालय के तहत कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआईसी) के महानिदेशक का कार्यभार दिया गया है। आईएएस मुखमीत भाटिया ने कर्मचारी राज्य बीमा निगम के नई दिल्ली स्थित मुख्यालय में गुरुवार, 1 अप्रैल को कार्यभार संभाला। बता दें कि मुखमीत एस भाटिया 1990 के बैच के झारखंड कैडर के आईएएस अधिकारी हैं।

इससे पहले उन्होंने भारत सरकार के वित्त मंत्रालय के आर्थिक मामलों के विभाग में अतिरिक्त सचिव के रूप में काम किया था। उन्हें जिला और राज्य स्तर के संगठनों के शासन एवं प्रबंधन का काफी अनुभव है। इसके अलावा उन्होंने झारखंड सरकार में श्रम एवं रोजगार और महिला एवं बाल विकास विभाग में बतौर प्रधान सचिव अपनी सेवाएं दी हैं। ज्ञात हो कि मुखमीत एस भाटिया के पास मद्रास विश्वविद्यालय से रक्षा एवं सामरिक अध्ययन में एम. फिल की डिग्री है। वहीं उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय के एमजीएमटी. अध्ययन संकाय से बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर की डिग्री प्राप्त की है।

इसके अलावा वरिष्ठ आईएएस अधिकारी मुखमीत भाटिया (IAS Mukhmeet Singh Bhatia) ने अमेरिका के कैम्ब्रिज स्थित हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से अंतरराष्ट्रीय विकास में परास्नातक (मास्टर) की पढ़ाई भी की है। वे चंडीगढ़ के पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक हैं। वहीं उनके पास अपनी साख के लिए शासन और सामाजिक संरक्षण पर विभिन्न शोध पत्र भी हैं।

आपको बता दें कि झारखंड में समाज कल्याण विभाग के प्रधान सचिव के पद पर रहते हुए वरिष्ठ आईएएस मुख्य पीठ एस भाटिया ने झारखंड के तत्कालीन समाज कल्याण मंत्री लुईस मरांडी से सीधे मोर्चा लेते हुए उस समय सीडीपीओ के तबादले में समाज कल्याण मंत्री के सुझाव को सीधे-सीधे अनसुना कर दिया था। इसके साथ ही मुखमीत भाटिया ने तत्कालीन समाज कल्याण विभाग के निदेशक राजीव रंजन की काबिलियत पर सवाल उठाते हुए राज्य सरकार से उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी।

जिसके बाद राज्य सरकार ने राजीव निगम को वहां से हटाकर धनबाद नगर निगम का सीईओ बना दिया गया था तथा मुखमीत भाटिया को समाज कल्याण विभाग से हटाकर सर्ड का महानिदेशक बनाया था। उस समय मुखमीत भाटिया को लेकर यह चर्चा तेज हो गई थी कि वह झारखंड छोड़कर केंद्र की प्रतिनियुक्ति पर जाना चाहते थे। हालांकि कुछ समय बाद ही उन्हें केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर बुला लिया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

Powered by WhatsApp Chat

× How can I help you?