Lazy and dull children want to improve, then adopt these effective methods

हर बच्चा अलग होता है। कुछ बच्चे चुस्त-दुरुस्त होते हैं तो कुछ सुस्त और आलसी होते हैं। आज हम आप से ऐसे ही कुछ आलसी बच्चों के बारे में बात करेंगे। अगर आपका बच्चा आलसी है तो सबसे पहले यह देखें कि कहीं वह ज्यादा वीडियो गेम या दिन भर टीवी के सामने तो नहीं बैठा रहता है। आज का यह तकनीकी युग ही सबसे बड़ा कारण है बच्चों के आलसी होने का। दिन भर घर के अंदर बैठे रहना ना खेलना ना कूदना। और टीवी के सामने बैठ कर खाते रहना। यह उनको आलसी ही नहीं बल्कि स्वास्थ के लिहाज़ से भी कमज़ोर बनता है। आज हम आपको ऐसे ही कुछ तरीके बताएंगे जिसे आप अपने आलसी बच्चे को संभल सकें।

उन्हें सुनें, बहस ना करें

अगर आप चाहते हैं कि आपका जिद्दी बच्चा आपको सुने तो इसके लिए आपको खुद उनकी बात ध्यान से सुननी होगी.

Listen to them don't argue

मजबूत इच्छाशक्ति वाले बच्चों की राय भी बहुत मजबूत ह… मजबूत होती है और वे कई बार बहस करने लगते हैं. अगर आप उनकी बात नहीं सुनेंगे तो वे और ज्यादा जिद्दी हो जाएंगे.

उन्हें काम में व्यस्त रखें

आलसी बच्चों से निपटने का सबसे अच्छा तरीका है ,उन्हें काम में व्यस्त रखें। उन्हें घर के छोटे मोटे काम करने को कहें, साथ जब काम पूरा होजाये तो उनकी तारीफ करें। इससे उनमें काम को लेके उत्साह बढ़ेगा।

बच्चों के साथ जबर्दस्ती बिल्कुल ना करें

जब आप अपने बच्चों के साथ किसी भी चीज को लेकर जबर्दस्ती करते हैं तो वे स्वभाव से विद्रोही होते चले जाते हैं. तत्कालिक तौर पर तो कई बार जबर्दस्ती से आपको समाधान तो मिल जाता है लेकिन आगे के लिए ये खतरनाक होता चला जाता है. बच्चों से जबरन कुछ करवाने से वे वही कुछ करने लगते हैं जिनसे उन्हें मना किया जाता है. आप अपने बच्चों से कनेक्ट होने की कोशिश करें.

खेलने के लिए प्रोसहित करें

आलसी बच्चों का आलास खत्म करने का सबसे बढ़िया तरीका है उनके खेलने को कहें। जब वे खेलेंगे कूदेंगे तो उनका स्वास्थ भी अच्छा रहेगा।

उन्हें विकल्प दीजिए

बच्चों का अपना दिमाग होता है और वे हमेशा वो करना पसंद नहीं करते हैं जो उन्हें कहा जाता है. अगर आप अपने 4 साल के बच्चे को कहेंगी कि वह 9 बजे से पहले बिस्तर में चला जाए तो इसमें कोई शक नहीं है कि आपको इसका जवाब एक बड़ा सा ना मिलेगा। ऐसा आदेश देने के बजाए आप उससे पूछें कि वो सोते समय कौन सी स्टोरीज सुनना पसंद करेगी/करेगा. बच्चों को आदेश ना दें बल्कि उन्हें सुझाव और विकल्प दें।

आप हमें हमारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मस FACEBOOKINSTAGRAMTWITTER पर भी फोलो कर सकतें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

Hello!

Click one of our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to info@jarasuniye.com

× How can I help you?