जीवन में सफलता और स्वस्थ रहने के लिए योगा बहुत ही जरूरी अहम भूमिका निभाता हैं. जब आप पूरी तरह से स्वस्थ और हेल्दी रहते हैं तो आपका मन किसी भी प्रकार की समस्या को बहुत जल्द हल कर लेता है जिससे आपको कई प्रकार की बीमारियों से छुटकारा मिलती हैं।योगासन का मतलब शक्ति और अवस्था होता है जो दो शब्दों से मिलकर बना है पहला “योग” और दूसरा “आसन“. यहां कहने का मतलब योग का अर्थ समाधि है और आसान एक ऐसी शारीरिक स्थिति होती है जिसमें लोग अपनी शारीरिक क्षमता के अनुसार सरलतम स्थति में योग करते हैं।

योगासन और प्राणायाम का विकास भारत में ही हुआ है जो मनुष्य के शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक स्वास्थ्य के विकास से जुड़ा हुआ है। हमारे प्राचीन ऋषि-मुनियों ने विभिन्न योगासनों का विकास कर मनुष्य के जीवन को स्वस्थ एवं प्रसन्नता से परिपूर्ण करने की चेष्टा की थी।

साधारण रूप से योग का अर्थ है जोड़ना । योग + आसन जिससे योगासन शब्द बना है का संपूर्ण अर्थ है ऐसे आसन जो मनुष्य को परमात्मा से जोड़ते हैं । आज से लगभग 2500 वर्ष पूर्व भारतीय मनीषि पतंजलि ने योगशास्त्र की रचना की थी जिसमें उन्होंने योग शब्द का प्रयोग मन की प्रवृत्तियों पर नियंत्रण रखने के लिए किया था।

आईए बात करतें है इससे होने वाले फायदों के बारे में

चिंता से मुक्ति, आपसी संबंधों में सुधार, अपार शांति, शरीर की प्रतिरोधक क्षमता में सुधार, वजन में कमी, सही समय पर सही निर्णय लेनी की क्षमता, मिर्गी रोग से छुटकारा, पेट संबंधित रोगो से भी छुटकारा, ऊर्जा में वृद्धि।

योग का एक महत्वपूर्ण बिंदु वर्तमान पर ध्यान केंद्रित करना होता है। अध्ययन में पाया गया है कि नियमित योग अभ्यास प्रतिक्रिया एकाग्रता, स्मृति और यहां तक कि ज्ञान में सुधार करती है। मेडिटेशन का अभ्यास करने वाले लोग समस्याओं को हल करने और बेहतर तरीके से जानकारी हासिल करने मे तेज़ होते है।
लचीलापन योग के लाभों में से एक है। अपनी पहली बारी के दौरान, आप शायद से अपने पैर की उंगलियों को छूने में सफल नहीं होंगे, लेकिन इसके निमियत अभ्यास करने से अंत में असंभव योग आसान भी बिना किसी मुश्किल के कर सकेंगे। योग मांसपेशियां मे लचीलापन लाने के इलावा मांसपेशियां को मजबूत भी करता है। योग गठिया और पीठ दर्द जैसी बीमारियों से भी बचाता हैं।

अर्थराइटिस यानी गठिया एक ऐसी बीमारी हैं जिसमें शरीर अकड़ने लगता है और जोड़ों में सूजन और दर्द रहता है। ज्यादातर डॉक्टर अर्थराइटिस से बचने के लिए योग की सलाह देते हैं। अर्थराइटिस की स्तिथि में रोज़मर्रा के काम पर असर पड़ता है। गठिया के मरीज़ों को इस दौरान होने वाले दर्द से बचने के लिए दिन में कम से कम दो बार आधे-आधे घंटे के लिए योग करना चाहिए।

नियमित योग करने वाले लोग अपने जीवन में बेहतर निर्णय ले पाते हैं और वह ज्यादातर खुशमिज़ाज क्वालिटी के लोग होते है। अगर आप भी अपनी दिनचर्या में योग को शामिल करें तो जीवन को बेहतर ढंग से देखने का नजरिया मिलता है साथ ही आप हर निर्णय सही ढंग से ले पाते हैं।

मोटापा एक ऐसी स्थिति है जहां शरीर मे वसा (फैट) जमा होता है जो दिल के दौरे जैसे स्वास्थ्य जोखिमों को बढ़ाने का कारण बन सकता है । तनाव, गलत जीवन शैली और बुरे खाने की आदत से मोटापा होता है। योग का उद्देश्य बेहतर खानपान और शारीरिक गतिविधिओं के माध्यम से अरोग को बढ़ावा देना है। योग का नियमित अभ्यास करने से निश्चित रूप से मोटापा कम किया जा सकता है। विभिन्न योग आसन के माध्यम से वजन कम करने के सहायता मिल सकती है और तनाव पर नियंत्रण पाया जा सकता है।

योग न सिर्फ शरीर का लचीलापन बढ़ाता है बल्कि मांसपेशियों को मजबूत बनाने के साथ वज़न घटाने में भी मदद करता है। योग हमें आलस दूर कर खुश रहने में मदद करता है। योग सेहतमंद जीवन के लिए बहुत जरूरी माना जाता है। नियमित योग के अभ्यास से शुगर, कब्ज़, हृदय रोग जैसी बीमारियों से लड़ने में भी मदद मिलती है। योग चेहरे की रंगत निखारने में भी मदद करता है।

शरीर मे लचीलापन और ताकत पीठ दर्द के कारणों को रोकने में मदद कर सकते है। बहुत से लोग जिन्हें पीठ दर्द होता है, वे कंप्यूटर पर बैठकर या कार चलाते हुए बहुत समय गुजरता हैं । जिसके कारण पूरे शरीर में जकड़न और रीढ़ की हड्डी सिकुड़ जाती है, योग इन स्थितियों का सुधार करता है।
योग और ध्यान आत्मज्ञान जागरूकता का निर्माण करते हैं। आप जितना अधिक जागरूक होंगे, क्रोध जैसी भावनाओं से मुक्त होंगे। योग करुणा भावनाओं को बढ़ा है जो मन को शांत करके क्रोध को कम करता है। नियमित रूप से योग का अभ्यास करने से कृतज्ञता, सहानुभूति, और क्षमा की भावनाओं का उत्पति होती है ।

ज़रा सुनिए- हेल्दी तन-मन के मंत्र जान लो लाइफ बीमारियों से दूर रहेगी
ज़रा सुनिए-आलसी और सुस्त बच्चों को सुधारना चाहते है, तो अपनाएं ये प्रभावी तरीके
आप हमें हमारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मस FACEBOOKINSTAGRAMTWITTER पर भी फोलो कर सकतें है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

Hello!

Click one of our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to info@jarasuniye.com

× How can I help you?