पुलिस आयुक्त के रूप में श्री ओ पी सिंह के नेतृत्व में बेहतर पुलिसिंग के रूप में फरीदाबाद पुलिस ने बहुत-सी महत्वपूर्ण उपलब्धियाँ हासिल की है।

श्री सिंह के कार्यकाल में वर्ष 2021 के जुलाई माह तक 1555 अपराधियों की गिरफ्तारी हो चुकी है। वांछित व ईनामी अपराधियों पर लगाम लगाने में सफलता प्राप्त करते हुए फरीदाबाद पुलिस ने मनोज भाटी प्रॉपर्टी डीलर हत्याकांड के आरोपी दो लाख का ईनामी बदमाश मनोज मांगरिया को गिरफ्तार कर जेल भेजा। निकिता हत्याकांड में भी तत्परता दिखाते हुए पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार किया था। नशा पर लगाम लगाते हुए भारी मात्रा में अवैध नशीले पदार्थों को जब्त कर कार्रवाई किया था।

इनके कार्यकाल में बीते साल एक अगस्त से प्रोजेक्ट फैमिली पुलिसिंग शुरू हुई। पुलिस की इस मुहीम में 707 बीट ऑफिसर्स ने लोगों से घर-घर जाकर लोगों से संपर्क किया। इस दौरान पुलिस ने 3.91 लाख लोगों को साइबर फ्रॉड, महिला विरुद्ध अपराधों समेत कोरोना को लेकर जागरूक किया। साथ ही पुलिस ने लोगों के आपसी झगड़ों को सुलझाने में काफी मदद की। उन्हें थाने-कचहरी की दौड़ भाग से बचाया। इसके साथ ही पुलिस ने शहर में अकेले रह रहे बुजुर्गों की भी हर संभव मदद की है।

फरीदाबाद पुलिस ने प्रतिबंधित नशा सामग्री के सेवन तथा वितरण के विरूद्ध एनडीपीएस एक्ट के अंतर्गत कार्रवाई करते हुए 152 आरोपियों को गिरफ्तार किया। मतलब पिछले वर्ष से साढ़े चार गुणा से अधिक आरोपियों को पुलिस ने इस वर्ष गिरफ्तार किया।

वहीं पुलिस द्वारा शराब की अवैध डिलीवरी और व्यापार के विरूद्ध कार्रवाई करते हुए उत्पाद अधिनियम के अंतर्गत मामले दर्ज कर 631 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। यहाँ पुलिस ने बीते वर्ष की तुलना में 7 फीसदी अधिक सफलता पाई है। अवैध हथियार रखने के मामले में पुलिस ने आर्म्स एक्ट के अंतर्गत 271 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आर्म्स एक्ट के अंतर्गत पुलिस ने 2020 की तुलना में इस वर्ष लगभग दो गुणा अधिक आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

उपर्युक्त आँकड़े इस वर्ष जुलाई माह तक के हैं। इन आंकड़ों को देखने से यह स्पष्ट है कि इस शहर में नशे का आदी होने अथवा प्रतिबंधित नशा सामग्री की खरीद-बिक्री के कारण सबसे अधिक आरोपियों को जेल जाना पड़ा है। नशे के विरूद्ध 783 गिरफ्तारी में अवैध जुआ और सट्टाखाई में हुई 501 गिरफ्तारी की संख्या को मिला कर देखें तो कुल गिरफ्तारी की संख्या 1284 हो जाती है। इससे स्पष्ट हो जाता कि इस वर्ष पुलिस की सबसे अधिक कार्रवाई सामाजिक बुराई को लेकर हुई है।

पर्यावरण दिवस से शुरूआत करते हुए फरीदाबाद पुलिस ने एक वर्ष में एक लाख पेड़ लगाने का संकल्प पूरा करते हुए जापान के वनस्पतिशास्त्री मियावाकी तकनीक का प्रयोग करते हुए पुलिस लाईन में हजारों फलदार व वनस्पतिक पौधे लगाये तथा सभी थाना व पुलिस इकाई परिसर में भी पौधारोपण किया गया। सड़क दुर्घटनाओं में अपनी जान गँवाने वालों के परिजनों द्वारा थाना परिसर में पौधारोपण किया गया।

जनता की पुलिस होने की अवधारणा में श्री सिंह द्वारा सोशल मीडिया पर लोगों को फरीदाबाद पुलिस से जोड़ने का प्रयोग भी सफल रहा। फरीदाबाद पुलिस के फेसबुक और ट्वीटर पर फॉलोअर बढ़ने के साथ इसको जनोपयोगी बनाया गया। हाल ही में शुरू हुए राज्य आपातकालीन समेकित सेवा के रूप में डॉयल 112 के फरीदाबाद में प्रभावी संचालन और सफल बनाने के लिए पर्याप्त संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई और उचित संसाधन उपलब्ध कराये गये।

पुलिस प्रवक्ता सुबे सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि श्री ओ पी सिंह के नेतृत्व में फरीदाबाद पुलिस ने देशव्यापी किसान आंदोलन में भी अपने क्षेत्र की विधि-व्यवस्था को बनाये रखते हुए किसानों के साथ किसी भी प्रकार की हिंसक झड़प होने से बचाये रखा। उनकी रणनीति का एक ताजा तरीन सबूत खोरी गांव में विधि व्यवस्था बनाए रखने और बिना किसी झड़प के इतने बड़े पैमाने पर अतिक्रमण को हटाने मे रहा। उनकी रणनीतिक सूझ बुझ और मार्गदर्शन मे फरीदाबाद पुलिस के अधिकारी कर्मचारियों द्वारा किया गया कार्य काबिले तारीफ रहा। पुलिस आयुक्त के नेतृत्व को सभी जगह सराहा गया।

क्राइम ब्रांच ने पकड़ी आयशर कैंटर में भरी 200 पेटी अवैध शराब, चालक गिरफ्तार

आप हमें हमारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मस FACEBOOKINSTAGRAMTWITTER पर भी फोलो कर सकतें है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

Powered by WhatsApp Chat

× How can I help you?