तुलसी का पौधा अमूमन हर घर के आंगन और छतों पर मिल ही जाती है। तुलसी के पौधे से घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश होता है। इसके साथ ही एंटीबायोटिक गुणों से भरपूर तुलसी हमें कई बीमारियों से भी सुरक्षित रखती है। आयुर्वेद में तुलसी का उपयोग जड़ी-बूटी के तौर पर भी किया जाता है। आईए जानते है  तुलसी के लाभ :

तुलसी के बीजों में फ्लैवोनोइड्स और फेनोलिक शामिल होते हैं जोकि मानव के शरीर में प्रतिरक्षा प्रणाली को सुधारते हैं। तुलसी एंटी-ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होती है जो कि शरीर में फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाती है। अगर आप इसकी पत्तियां चबाते हैं या फिर इससे हर्बल-टी बनाकर पीते हैं तो उससे शरीर को लाभ होता है।
तुलसी सर्दी और जुकाम में भी राहत प्रदान करने का काम करती है। एंटीस्पास्मोडिक प्रभाव वाली तुलसी सर्दी और जुकाम से परेशान लोगों की मदद करती है। वहीं इसके सेवन से बुखार में भी राहत मिल सकती है।
अगर आप पिंपल्स से परेशान हैं तो आप तुलसी के पत्तों और संतरे के छिलकों का पाउडर लें और उसमें गुलाब जल मिलाकर पेस्ट तैयार करें। इस पेस्ट को करीब 15 मिनट के लिए चेहरे लगा रहने दें और उसके बाद धो लें। इसके अलावा आप तुलसी के पत्तों का रस और चंदन पाउडर से पेस्ट बनाकर उसे भी चेहरे पर लगा सकते हैं।

तुलसी के पत्तों में एंटी-स्ट्रेस एजेंट होते हैं जो कि इंसान की मानसिक परेशानी और तनाव को ठीक करते हैं। इसी के साथ तुलसी के सेवन से स्ट्रेस की वजह से पैदा होने वाले नकारात्मक विचारों से मुकाबले करने में भी मदद मिलती है।
कैंसर बहुत ही खतरनाक बीमारी है, लेकिन इसका इलाज भी आयुर्वेद में मौजूद है। तुलसी का पौधा इस बीमारी से लड़ने में मदद करता है। तुलसी में यूजेनॉल कंपाउंड पाया जाता है जोकि इंसान के शरीर में कैंसर से लड़ने में मददगार साबित होता है। कई रिसर्च में भी पाया गया है कि तुलसी कैंसर से लड़ने में मददगार रहती है। वहीं, जो लोग नियमित रूप से तुलसी का सेवन करते हैं तो उनमें कैंसर होने की संभावना बहुत कम हो जाती है।
आप हमें हमारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मस FACEBOOKINSTAGRAMTWITTER पर भी फोलो कर सकतें है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×

Powered by WhatsApp Chat

× How can I help you?