Tag: latestnewsinhindi

चिंता नही चिंतन का समय, देश में फैलती महामारी के कही हम तो जिम्मेदार नही? जानिए इस आर्टिकल में

कोरोना महामारी ने देशभर में हाहाकार मचा रखा है। इस महामारी की दूसरी लहर इतनी भयावह है कि इसने सबके…

प्रधानमंत्री ने वाराणसी के डॉक्टरों और अधिकारियों से बातचीत कर दिया नया मंत्र, ‘जहां बीमार वहां उपचार’

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से वाराणसी के डॉक्टरों और अधिकारियों से बातचीत की। बातचीत के…

पश्चिमी तट की ओर बढ़ रहे चक्रवात “तौकते” को देखते हुए हवाईअड्डों ने सभी सावधानियों का रखा ध्यान

भारत के पश्चिमी तट पर आने वाले चक्रवात तौकते के मद्देनजर, इस विषय पर जारी तकनीकी परिपत्र के अनुसार, भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के वरिष्ठ प्रबंधन ने दिल्ली के कॉर्पोरेट मुख्यालय में एक वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से दक्षिणी क्षेत्र तथा पश्चिमी क्षेत्र में पश्चिमी तटीय हवाई अड्डों की तैयारियों का जायजा लिया,भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के सदस्य (संचालन) श्री आई.एन.मूर्ति ने संबंधित हवाई अड्डों को हर तरह की सावधानी बरतने और अपनी तैयारियों की योजना बनाने का निर्देश दिया है। भारी बारिश के कारण लक्षद्वीप के अगत्ती हवाई अड्डे पर निर्धारित उड़ानों का संचालन 16 मई, 2021(सुबह 10 बजे) तक स्थगित कर दिया गया है,जैसे ही चक्रवात इस क्षेत्र से गुजर जाएगा तो हवाई अड्डे को चालू कर दिया जाएगा भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण का वरिष्ठ प्रबंधन अन्य हवाई अड्डों पर भी स्थिति की लगातार निगरानी कर रहा है और अब तक, कुछ भी प्रतिकूल नहीं बताया गया है तथा सभी परिचालन सामान्य हैं। सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए और हवाई अड्डे के बुनियादी ढांचे पर नुकसान को न्यूनतम करने के लिए हवाई अड्डों को सलाह दी गई है कि, वे मानक संचालन प्रक्रिया और दिशानिर्देशों के अनुसार ही योजना बनाएं,हवाई अड्डे के बुनियादी ढांचे की हिफाज़त के लिए, संबंधित हवाई अड्डों द्वारा चक्रवात से पहले और चक्रवात के बाद जांच सूची के अनुसार एहतियाती उपाय सुनिश्चित किए जा रहे हैं,भारतीय मौसम विभाग ने दक्षिण गुजरात और दीव के तटों (लक्षद्वीप क्षेत्र पर दबाव) के लिए चक्रवात से पूर्व निगरानी के संबंध में मौसम पूर्वानुमान जारी किया है।  इसके उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और 18 मई की सुबह तक गुजरात तट के पास पहुंचने…

भारत सरकार ने किसानों को रियायती कीमत पर उर्वरकों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए उठाए ठोस कदम गए

भारत सरकार उर्वरक उत्पादकों/आयातकों के माध्यम से किसानों को रियायती कीमतों पर उर्वरक उपलब्ध करवा रही है। इनमें यूरिया, फॉस्फेटिक…

कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में एनटीपीसी के छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश के स्टेशन आए आगे

देश की प्रमुख बिजली निर्माता कंपनी एनटीपीसी लिमिटेड बिजली मंत्रालय के तहत एक केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम है, जो…

केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने क्वारंटाइन में रहकर कार्य करते हुए अपने संसदीय क्षेत्र ऊधमपुर में कोविड प्रबंधन की स्थिति का लिया जायज़ा

कोविड-19 संक्रमण होने के बाद अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद क्वारंटाइन में रहकर काम करते हुए, केंद्रीय मंत्री डॉ.…

डीजीसीआई ने डीआरडीओ द्वारा विकसित कोविड की दवा के आपात इस्तेमाल को दी हरी झंडी

डॉ. रेड्डीज लेबोरेटरीज (डीआरएल), हैदराबाद के सहयोग से रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) की प्रयोगशाला इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूक्लियर मेडिसिन एंड…

विधानसभा चुनाव वाले राज्यों/ केंद्रशासित प्रदेश में कोविड प्रोटोकॉल

मुख्य निर्वाचन आयुक्त श्री सुशील चंद्रा ने आज वर्चुअल माध्यम से एक बैठक में निर्वाचन आयोग के वरिष्ठ अधिकारियों और पांच राज्यों / केंद्रशासित प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों के साथ मतगणना के प्रबंध की समीक्षा की। श्री चंद्रा ने निर्देश दिया कि आयोग के सभी निर्धारित निर्देशों का पालन किया जाना ज़रूरी है। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि सभी मतगणना केंद्र पूरी तरह से कोविड दिशा निर्देशों के तहत व्यवस्था होनी चाहिए। मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने महामारी की चुनौतीपूर्ण स्थितियों में सफलतापूर्वक मतदान सम्पन्न कराने के लिए सभी मुख्य निर्वाचन अधिकारियों को बधाई दी। पांच राज्यों / केन्द्र शासित प्रदेशों- असम, केरल, पुद्दुचेरी, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में विधानसभा आम चुनाव और पीसी / एसी में हुए उपचुनाव की मतगणना 2.5.2021 को प्रात: 8 बजे शुरू होगी। निर्वाचन आयोग ने पाँच राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों में 822 विधानसभा क्षेत्रों और 13 राज्यों में 4 पीसी और 13 एसी में हुए उपचुनावों के लिए सुचारू और सुरक्षित मतगणना के लिए विस्तृत व्यवस्था की है। इससे पहले 28/4/2021 को, आयोग ने मतगणना से संबंधित मौजूदा दिशा निर्देशों / आदेशों के अलावा महामारी के मद्देनजर विस्तृत निर्देश जारी किए, जिसमें अन्य बातों के साथ शामिल थे: डीईओ, नोडल स्वास्थ्य अधिकारी की सहायता से मतगणना केंद्रों पर कोविड-19 संबंधित मानदंडों का पालन सुनिश्चित करने के लिए प्रत्येक मतगणना केंद्र में नोडल अधिकारी होंगे। मतगणना केंद्र के संबंध में मौजूदा कोविड दिशानिर्देशों के अनुसार सभी व्यवस्था की गई है, इस बारे में अनुपालन प्रमाण पत्र संबंधित स्वास्थ्य अधिकारियों से प्राप्त किये जायेंगे। आरटी-पीसीआर / आरएटी जांच के बिना या कोविड -19 से सुरक्षा के टीकाकरण की 2 खुराक के बिना किसी भी उम्मीदवार / एजेंट को मतगणना हॉल के अंदर प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी और नेगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट या आरएटी रिपोर्ट या टीकाकरण रिपोर्ट को मतगणना शुरू होने के 48 घंटे के भीतर प्रस्तुत करना होगा। डीईओ, मतगणना के एक दिन पहले उम्मीदवारों / मतगणना एजेंटों को आरटी-पीसीआर / आरएटी जांच की व्यवस्था करेगा। मतगणना एजेंटों की सूची मतदान की तय तारीख से तीन दिन पहले 1700 बजे तक संबंधित उम्मीदवारों द्वारा आरओ को उपलब्ध कराई जाएगी (आरओ हैंडबुक का पैरा 15.12.2)। 4. आयोग ने 27/4/2021 के निर्देशों के अनुसार किसी भी विजय जुलूस पर पहले से ही प्रतिबंध लगा दिया है। यह भी निर्देश दिया गया था कि विजय जुलूस पर प्रतिबंध लगाने से संबंधित राज्य / केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा निर्वाचन क्षेत्र (क्षेत्रों) में कहीं भी विजयी उम्मीदवारों के समर्थकों द्वारा या निर्धारित संख्या से अधिक लोग किसी भी तरह के जुलूस में शामिल होंगे। आयोग ने इन सभी राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को यह सुनिश्चित करने का भी निर्देश दिया है कि निर्वाचन आयोग के निर्देश और ईसीआई और एनडीएमए / एसडीएमए के सभी दिशा-निर्देशों को मतगणना के मद्देनजर लागू किया जाएगा। 5. मतगणना एजेंटों आदि के लिए आरटी-पीसीआर / आरएटी जांच सुनिश्चित करने के लिए निर्वाचन आयोग के निर्देशों का अनुपालन किया जा रहा है। मुख्य निर्वाचन अधिकारियों से प्राप्त जानकारी के अनुसार, चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों ने निर्धारित समय तक पाँच राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों में लगभग 1,50,000 मतगणना एजेंटों (विकल्प सहित) का विवरण दिया है। उनमें से 90 प्रतिशत से अधिक लोगों की पहले ही आरटी-पीआरसी / आरएटी जांच हो चुकी है। शेष लोगों को आज डीईओ द्वारा जांच की सुविधा प्रदान की जा रही है। आयोग ने किसी भी अधिकृत प्रयोगशाला से जांच रिपोर्ट स्वीकार करने का भी निर्देश दिया है। पीसी / एसी के उपचुनाव की मतगणना में भी इन निर्देशों का अनुपालन किया जा रहा है। 6.  मतगणना प्रक्रिया को कवर करने के लिए आयोग द्वारा अधिकृत मीडिया को आरटी- पीसीआर / आरएटी जांच आदि की सुविधा दी जा रही है। लगभग 12000 मीडियाकर्मियों को मतगणना केंद्र से मतगणना की प्रक्रिया को कवर करने के लिए अधिकार पत्र दिए गए हैं। 7. मतगणना 2016 के चुनावों में 1002 हॉल की तुलना में 2364 मतगणना हॉल में होगी, यह मतगणना केंद्रो की संख्या में 200 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि है। यह हॉल के अंदर कोविड सुरक्षा उपायों / दिशानिर्देशों और संबंधित उपायों पर आयोग के निर्देशों के मद्देनजर है जिसके कारण (1) मतदान केंद्रों (2) पोस्टल बैलट में काफी वृद्धि हुई है। 8.  पांच राज्यो/ केंद्र शासित प्रदेशो में वरिष्ठ नागरिकों (80 वर्ष से अधिक) दिव्यांगों, कोविड प्रभावित और आवश्यक सेवाओं में कार्यरत की श्रेणियों में मतदाताओं को डाक मतपत्र की सुविधा का विस्तार करने के लिए आयोग के उपाय के तहत डाक मतपत्रों में 400 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई (2016 में 2.97 लाख से 2021 में 13.16 लाख तक)। 9. इन 5 राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों में मतगणना के लिए आयोग ने 822 आरओ और 7000 से अधिक एआरओ नियुक्त किए हैं। माइक्रो ऑब्जर्वर सहित लगभग 95000 मतगणना अधिकारी मतगणना का कार्य करेंगे। 10. आयोग ने मतगणना की प्रक्रिया की देखरेख के लिए लगभग 1100 मतगणना पर्यवेक्षक नियुक्ति किए हैं। अतिरिक्त रिजर्व मतगणना पर्यवेक्षकों  को भी किसी भी महामारी संबंधी प्रतिस्थापन के मामले में ड्यूटी के लिए प्रतिनियुक्त किया गया है।

×

Powered by WhatsApp Chat

× How can I help you?